dhara 370; artical 370

धारा 370 क्या है?

What is Article 370 ? 

धारा 370 का मुद्दा भारत के आजाद होने के समय से चला आ रहा है । जिसके चलते जम्मू और कश्मीर भारत का होते हुए भी भारत सरकार का जम्मू और कश्मीर पर पूर्ण अधिकार नहीं है।
अभी हाल ही में माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा धारा 370 को हटा दिया गया है ।जिसके कारण यह एक चर्चा का विषय बना हुआ हैं । तो आज हम आपको विस्तार से बताएंगे की क्या है आर्टिकल 370 ?

 

क्या है आर्टिकल 370 ?

इस आर्टिकल में कहा गया है कि देश की संसद को जम्मू-कश्मीर के लिए रक्षा, विदेश मामले और संचार के अलावा किसी दूसरे विषय में कानून बनाने का अधिकार नहीं होगा। वहीं इस आर्टिकल में जम्मू-कश्मीर को अपना अलग संविधान बनाने की परमीशन भी दी गई।

dhara 370, artical 370

Top 5 Earning Apps

कैसे लागू हुआ आर्टिकल 370 ?

15 अगस्त 1947 को जब भारत आजाद हुआ तो उस समय भारत में छोटी छोटी रियासते थी सभी रियासतों में एक एक राजा था जो उन पर शासन करता था । कुछ मुस्लिम रियासते थी तो कुछ हिन्दू रियासते थी । जब भारत आजाद हुआ तो उस समय इन रियासतों को खत्म कर के एक देश बनाने का निर्णय लिया गया जिसमें की अंग्रेजी टाइप से शासन हो कहा एक प्रधानमंत्री हो एक राष्ट्रपति हो और अलग अलग मंत्री हो। तो उस समय भारत के प्रधानमंत्री पद के लिए दो उममीदवार खड़े हुए जिनमें एक पंडित जवारलाल नेहरु और दूसरा मोहमद अली जिन्ना । दोनों ही प्रधानमंत्री बनना चाहते थे लेकिन एक देश में दो प्रधानमंत्री संभव नहीं हो सकते थे तो महात्मा गांधी ने सुझाव दिया कि मुस्लिम रियासतों को अलग कर दिया जाए तथा जिन्ना को उनका प्रधानमंत्री बना दिया जाए तो ऐसे कर के पाकिस्तान देश बना तथा जिन्ना उसके प्रधानमंत्री बने और था भारत के पण्डित जवाहर लाल नेहरू बने ।

उस समय एक प्रस्ताव पारित किया गया था जिसमें सभी रियासतों को खुली आजादी मिली थी कि वे किस देश में मिलना चाहते हैं तो सभी रियासतों के राजाओं ने उस पर हसताक्षर कर के अपने अपने देश चुन लिए थे लेकिन जम्मू और कश्मीर के राजा हरि सिंह ने इस प्रस्ताव पर मुहर नहीं लगाई और खुद को अलग रखने की मांग की ओर सबसे अलग हो गया । उस समय जम्मू और कश्मीर पर भारत में होते हुए भी भारत का पूर्ण अधिकार नहीं था |

उसमे अपना खुद का शासन था लेकिन कुछ ही समय बाद पाकिस्तानी सेना ने जम्मू कश्मीर पर हमला कर दिया तो राजा हरि सिंह ने भारत के प्रधानन्त्री से सहायता मांगी । भारत ने सहायता के समय शर्त रखी कि जम्मू और कश्मीर का भारत में विलय करना होगा । राजा हरि सिंह ने शर्त मान ली और बाद में भारत में मिलने को तैयार हो गया लेकिन जिसमें हरी सिंह की शर्त थी की भी शर्तें थी की जम्मू कश्मीर पर राष्ट्रपति शासन नहीं लग सकता यहां के लोग वहां निवास नहीं कर सकते वहां की नागरिक भी अलग होगी वहां का झंडा भी अलग होगा वहां की संचार सेवा भी अलग होगी इस तरह की काफ़ी शर्तों के बाद सविधान में धारा 370 को जोड़ा गया था ।

क्या क्या प्रावधान है धारा 370 में ?

राष्ट्रपति के पास जम्मू और कश्मीर राज्य के शासन को भंग करने का अधिकार नहीं है।
भारत के उचचतम न्यायालय के आदेश जम्मू कश्मीर में मान्य नहीं होते ।
जम्मू कश्मीर के नागरिकों की दोहरी नागरिकता।
जम्मू कश्मीर का अपना अलग झंडा वहां भारत के झंडे का सम्मान करना जरूरी नहीं होता है।
जम्मू कश्मीर पर भारत वितिय आपातकाल नहीं लगा सकता ।
वहां पर राष्ट्रपति शासन लागू नहीं हो सकता विशेष परिस्थती में राज्यपाल शासन लागू होता है।
भारत के लोगो को जम्मू कश्मीर में जमीन खरीदने का अधिकार नहीं है।
जम्मू कश्मीर में आरटीआई और CAG jaise कानून लागू नहीं होते ।
धारा 370 की वजह से कश्मीर में रहने वाले पाकिस्तानी को भी भारत की नागरिकता मिल जाती हैं क्योंकि वहां दोहरी नागरिकता है ।

धारा 370 हटने के बाद अब बनेगा नया कश्मीर

अब कश्मीर में नया संविधान नहीं होगा।

कश्मीर में अब भारत का तिरंगा ही लहराएगा ।

अन्य राज्यो की तरह जम्मू कश्मीर में भी होगी शासन व्यवस्था।

जम्मू कश्मीर पर अब राष्ट्रपति शासन लागू हो पाएगा ।

किसी भी राज्य के लोग जम्मू कश्मीर में जाकर रह पाएंगे ।

उचतम न्यायालय का आदेश मान्य होगा |

5 अगस्त 2019 को केंद्र सरकार ने राषट्रपति की अनुमति से कश्मीर में धारा 370 को हटा दिया गया है गृह मंत्री ने जैसे ही धारा 370 के हटने का ऐलान किया तो संसद में हंगामा हो गया ।

dhara 370; artical 370

धारा 370 हटने के बाद अब कश्मीर में व्यापार और उद्योग में बड़ा निवेश हो सकता हैं। क्योंकि अभी तक किसी भी राज्य के लोग वहां पर जमीन नहीं खरीद सकते थे ।

वहां के लोग मुख्य रूप से टूरिस्ट से जुड़े हुए है वहीं से अपनी इनकम करते है लेकिन बीते दिन वहां लड़ाई दंगो की वजह से अशांति बनी हुई थी जिस से टूरिस्ट भी वहां काम ही जा रहे थे अब वहां केंद्र सरकार का शासन हो चुका है अतः वहां टूरिस्ट की संख्या में भी बढ़ोतरी होगी ।


इस तरह से धारा 370 के हटने के बाद अब एक नया कश्मीर होगा ।
आशा करते हैं आपको यह जानकारी पसंद आई होगी । कृपया इस जानकारी को अपने दोस्तो के साथ भी साझा करे ।

Like
Like Love Haha Wow Sad Angry

About the author

Rupesh Kumar

I'm Rupesh Kumar. I'm a blogger, App developer and a youtuber.

View all posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *